लोक सेवा आयोग

HAMNA

NEW DELHI :-भारत में 1919 के भारत सरकार अधिनियम के अधीन सर्वप्रथम 1926 में लोक सेवा आयोग की स्थापना की गई थी लोक सेवा आयोग की स्थापना के लिए 1924 में विधि आयोग ने सिफारिश की थी |लोक सेवा आयोग का प्रावधान भारतीय संविधान के अनुच्छेद 315 में किया गया है इसके अंतर्गत :

  1. संघ लोक सेवा आयोग
  2. राज्य लोक से
  3. संयुक्त आयोग

संपूर्ण भारत के लिए एक लोक सेवा आयोग संघ होगा जबकि संपूर्ण राज्य के लिए एक राज्य लोक सेवा आयोग होगा परंतु जब दो या दो से अधिक राज्यों के लिए एक ही आयोग कार्य करें तो इसे संयुक्त आयोग कहते हैं

संघ लोक सेवा आयोग व संयुक्त आयोग के सदस्यों व अध्यक्षों की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है सदस्यों व अध्यक्ष अपना त्यागपत्र कि राष्ट्रपति को देते हैं

राज्य सेवा आयोग के सदस्यों व अध्यक्ष की नियुक्ति राज्यपाल द्वारा की जाती है और यह अपना त्याग पत्र राज्यपाल को देते हैं

कार्यकाल

संघ लोक सेवा आयोग के सदस्यों का कार्यकाल 6 वर्ष या 65 वर्ष की आयु तक होता है

परंतु राज्य लोक सेवा आयोग का संयुक्त आयोग के सदस्यों का कार्यकाल 6 वर्ष या 62 वर्ष की उम्र तक होता है

संघ लोक सेवा आयोग के सदस्यों व अध्यक्ष के द्वारा अपने कार्यों की रिपोर्ट को राष्ट्रपति को सौंपी जाती है वहीं दूसरी और राज्य लोक सेवा आयोग के सदस्यों व अध्यक्ष के द्वारा अपने कार्यकाल की अध्ययन की रिपोर्ट राज्यपाल को दी जाती हैं

अध्यक्ष व सदस्यों का पद से हटाया जाना:-

राष्ट्रपति के द्वारा संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष व सदस्यों को निम्नलिखित परिस्थितियों हटा सकता है :
यदि कोई पाया जाए –

  • दिवालिया हो
  • किसी अन्य लाभ के पद पर हो
  • मानसिक रूप से बीमार हो
  • कदाचार का दोषी हो

इसके लिए राष्ट्रपति संघ के लिए व राज्यपाल राज्य के लिए उचित अन्य सदस्यों की जांच का आदेश देता है और यदि रिपोर्ट में आरोप सही पाया जाता है तो उस व्यक्ति को अपने पद से हटना पड़ेगा अर्थात अपना त्यागपत्र देना पड़ेगा

जब तक सुप्रीम कोर्ट में जांच लंबित रहती है उस दौरान संघ लोक सेवा आयोग व संयुक्त लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष व सदस्यों को राष्ट्रपति राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष व सदस्यों को राज्यपाल के द्वारा निलंबित किया जाता है

संघ लोक सेवा आयोग की संस्तुति पर भारत सरकार के लोक सेवा के पदाधिकारियों को नियुक्ति के लिए परीक्षाओं का संचालन करती है

संघ लोक सेवा आयोग एवं राज्य लोक सेवा आयोग का कार्य -दोनों आयोगों का कार्य भर्ती प्रक्रिया से लेकर बर्खास्त करने तक का होता है

संविधान के अनुच्छेद 315 से 323 में लोक सेवा आयोग एवं राज्य सेवा आयोग के गठन का प्रावधान है

  • अनुच्छेद 315- संघ तथा राज्यों के लिए लोक सेवा आयोग
  • अनुच्छेद 316- सदस्यों की नियुक्ति तथा कार्यकाल
  • अनुच्छेद 317- लोक सेवा आयोग के सदस्य की बर्खास्तगी एवं निलंबन
  • अनुच्छेद 318- आयोग के सदस्यों एवं कर्मचारियों की सेवा की शर्तों संबंधी नियम बनाने की शक्ति
  • अनुच्छेद 319- आयोग के सदस्यों द्वारा सदस्य्ता समाप्ति के पश्चात पद पर बने रहने पर रोक
  • अनुच्छेद 320- लोक सेवा आयोग के कार्य
  • अनुच्छेद 321- लोक सेवा आयोग के कार्यों को विस्तारित करने की शक्ति
  • अनुच्छेद 322- लोक सेवा आयोग का खर्च
  • अनुच्छेद 323- लोक सेवा आयोग के प्रतिवेदन

आयोग का मुख्यालय नई दिल्ली के ढोल पुर में स्थित है यह अपना कार्य अपने सचिवालय के माध्यम से करते हैं
विनी मित्तल संघ लोक सेवा आयोग के वर्तमान अध्यक्ष है

Leave a Reply

Your email address will not be published.